Headlines अन्य अपराध जीवन शैली टैकनोलजी टॉप न्यूज़ फोटो-गैलरी बिजनेस बिहार बॉलीवुड ब्रेकिंग न्यूज़ रमतो राजनीति राष्ट्रीय

आरजेडी का बिहारवासियों से आह्वावन, 9 जून को अपने अपने घर में बजाएं थाली -कटोरा…

देश में कोरोना मरीज़ों की संख्या लगभग दो लाख पहुंच गई है, ग़रीब पैदल चल भूखे मर रहे है लेकिन भाजपा 9 जून को डिजिटल रैली निकालेगी। भाजपा दुनिया की पहली ऐसी पार्टी है जो अपने लोगों के मरने पर जश्न मना रही है।जिस दिन BJP ग़रीबों की मौत का जश्न मनाएगी उसी दिन प्रतिकार में हम “गरीब अधिकार दिवस” मनाएँगे।

बीजेपी और जेडीयू सिर्फ अपनी सत्ता की भूख मिटाना चाहती है लेकिन हम ग़रीबों-मज़दूरों के पेट की भूख मिटाना चाहते है। 9 जून को सभी बिहारवासी अपने-अपने घरों में थाली, कटोरा और गिलास बजाएंगे। बाहर से लौटे सभी श्रमिक भाई भी थाली -कटोरा बजा चैन से नींद में सो रही बिहार सरकार को जगायेंगे।

1. 100 से अधिक बिहारी श्रमिक, महिलाएँ और बच्चें लॉकडाउन में इनकी ग़रीब विरोधी दमनकारी नीतियों के कारण मर गए। उन पर आज तक कोई शोक संवेदना और शोक का प्रकटीकरण नहीं किया लेकिन चुनावी तैयारियों में व्यस्त है। भाजपा को कोई लोकलाज नहीं।

2. बिहार में चाहे कोई भी दिक्कत आए , कोई भी तकलीफ आए। बीजेपी हो जदयू के दिल और दिमाग पर हमेशा चुनाव सत्ता और पावर की भूख मिटाने की लालसा रहती है।

3. डिजिटल रैली करने वालों को इस मानवीय संकट में अगर जनता की चिंता होती तो वो डिजिटल जनसेवा करते, डिजिटल मदद करते। हमने डिजिटली लाखों की मदद की लेकिन ग़रीबों के पेट पर लात मारने वाले इस संवेदना और पीड़ा को नहीं समझ सकते। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एक बार कहा था ग़रीब को डाटा से पहले आटा चाहिए।

4. इनकी आत्मा-अंतरात्मा सब भावहीन होकर डिजिटल हो चुकी है। लाखों बिहारी ग़रीबों का जीवन तबाह कर आज यह डिजिटल टोली डिजिटल रैली निकाल रही है। जब जनता सड़कों पर भटक रही थी तब क्यूं नहीं उन्होंने “डिजिटली घर पहुँचाओ रैली” और जब लोग भूख से मर रहे थे तब क्यूं नहीं उन्होंने “डिजिटली भोजन पहुंचाओ” रैली की।

5. ये लोग वर्चूअल डिजिटल रैली नहीं बल्कि डिजिटल क्षमा याचना रैली निकालें, डिजिटल शर्मिंदा रैली निकालें, डिजिटल कुशासन रैली निकलें, डिजिटल पश्चताप रैली निकालें।

6. इस आपदा में जिस प्रकार जनता के बीच से ये डबल इंजन सरकार गायब है उस हिसाब से तो इनका वर्चूअल नहीं बल्कि Invisible रैली निकालना बनता है।

7. इनके सभी मंत्री महत्वपूर्ण विभागीय बैठकों से ग़ायब है। लेकिन पार्टी के कार्यों में उपस्थित रहते है।

8. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल केंद्रीय दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद को ट्वीट कर BSNL के मोबाइल सिग्नल नहीं रहने की शिकायत करते है। और यहाँ ये लोग डिजिटल चुनाव और रैली की फ़ालतू बात कर रहे है।

9. वर्चूअल रैली निकालने से पहले ड़बल इंजन सरकार बताए कि केंद्र से उन्हें कितने वेंटिलेटर, पीपीई किट इत्यादि मिले।

10. 15 वर्षों की बिहार सरकार बताए इन्होंने पलायन रोकने के लिए 15 वर्ष में क्या किया? बिहार वापस लौटे श्रमिकों के लिए रोज़गार और नौकरी की क्या योजना और व्यवस्था है?

ऐसे मुश्किल वक्त में डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म का प्रयोग करना चाहिए —

राशन के लिए
सुशासन के लिए
कड़े प्रशासन के लिए

लेकिन ये डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म का प्रयोग कर रहें हैं चुनाव के लिए, भाषण के लिए। सोचिए, कितने शर्म की बात है…

ब्यूरो रिपोर्ट, बिहार नाउ

Related posts

सुशील मोदी का तेजस्वी पर हमला…

Bihar Now

अपराध से अब राजनीति में कदम रखने की कोशिश !

Bihar Now

5 गिरफ्तार, 24 घंटे बाद भी मुख्य आरोपी फरार !

Bihar Now