Headlines अंतरराष्ट्रीय अन्य अपराध जीवन शैली टैकनोलजी टॉप न्यूज़ दिल्ली फोटो-गैलरी बिजनेस बिहार बॉलीवुड ब्रेकिंग न्यूज़ मनोरंजन रमतो राजनीति राष्ट्रीय हॉलीवुड

देवी दुर्गा के प्रथम स्वरुप मां शैलपुत्री की पूजा आज, कलश स्थापना का क्या है मुहूर्त ?, जानें पूजन विधि…

देवी दुर्गा के प्रथम स्वरुप मां शैलपुत्री की पूजा आज से आरम्भ हो रही है…शारदीय नवरात्र इस साल 8 दिन के ही होंगेनवरात्रि के बाद 26 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा

शारदीय नवरात्रि की इस बार कई खास बातें हैं. यह आश्विन शुक्ल पक्ष की शारदीय नवरात्रि 2020 है. इसे शक्ति प्राप्त करने की नवरात्रि कहा जाता है. इस बार यह नवरात्रि 17 अक्टूबर यानी आज  से आरम्भ हो रही है और इसका समापन 25 अक्टूबर को होगा. शारदीय नवरात्र इस साल 8 दिन के ही होंगे. इसके बाद 26 अक्टूबर को दशहरा यानी विजय दशमी मनाई जाएगी.

कलश स्थापना का मुहूर्त
कलश की स्थापना आश्विन शुक्ल प्रतिपदा को की जाती है. इस बार प्रतिपदा रात्रि 09.08 तक रहेगी. कलश की स्थापनाय. रात्रि 09.08 के पूर्व कर जाएगी. इसके चार शुभ मुहूर्त होंगे. सुबह 07.30 से 09.00 तक. दोपहर 01.30 से 03.00 तक. दोपहर 03.00 से 04.30 तक और शाम को 06.00 से 07.30 तक.

कलश की स्थापना कैसे करें?
कलश स्थापना के लिए सबसे पहले पूजा स्थल को शुद्ध कर लेना चाहिए. एक लकड़ी का पटरा रखकर उस पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं. इस कपड़े पर थोड़े चावल रखने चाहिए. चावल रखते हुए सबसे पहले गणेश जी का स्मरण करना चाहिए. एक मिट्टी के पात्र में जौ बोना चाहिए. इस पात्र पर जल से भरा हुआ कलश स्थापित करें. कलश पर रोली से स्वस्तिक या ऊं बनाना चाहिए. इसके मुख पर रक्षा सूत्र बांधें. फिर इसमें सुपारी, सिक्का डालकर आम या अशोक के पत्ते रखने चाहिए.

कलश के मुख को ढक्कन से ढकें. ढक्कन को चावल से भरकर रखें. एक नारियल लें और उस पर चुनरी लपेटकर रक्षा सूत्र से बांधें. इस नारियल को कलश के ढक्कन पर रखते हुए सभी देवताओं का आवाहन करना चाहिए. अंत में दीप जलाकर कलश की पूजा करनी चाहिए. कलश पर फूल और मिठाइयां चढ़ाएं. नवरात्र में देवी पूजा के लिए जो कलश स्थापित किया जाता है वह सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का ही होना चाहिए

नवरात्रि के व्रत में इन बातों का रखें ध्यान
नवरात्रि में नौ दिन भी व्रत रख सकते हैं और दो दिन भी. जो लोग नौ दिन व्रत रखेंगे वो लोग दशमी को पारायण करेंगे और जो लोग प्रतिपदा और अष्टमी को व्रत रखेंगे वो लोग नवमी को पारायण करेंगे. व्रत के दौरान जल और फल का सेवन करें. ज्यादा तला भुना और गरिष्ठ आहार ग्रहण न करें.

ब्यूरो रिपोर्ट, बिहार नाउ

Related posts

JDU MLC का दरभंगा में शिक्षकों ने किया जबरदस्त विरोध, कार्यक्रम छोड़ निकल पड़े MLC साहब का वीडियो वायरल !….

Bihar Now

Breaking: कोरोना को लेकर बिहार विधान परिषद के चुनाव पर फिलहाल रोक

Bihar Now

पोषण पर जागरूकता बढ़ाने के लिए आम लोगों के मोबाइल पर भेजे जाएंगे SMS…

Bihar Now

एक टिप्पणी छोड़ दो